• 2
  • 3
  • 4
  • 5
  • 6
  • jquery image carousel
21 32 43 54 65 77 88 99 108
jquery carousel slider by WOWSlider.com v8.8

News & Updates



  • सूचना

    गुरू विरजानन्द गुरूकुल महाविद्यालय
    करतारपुर में सत्र (2022-2023) हेतु नए
    छात्रों की प्रवेश परीक्षा के आवेदन के लिए
    निचे दिये गए लिंक पर क्लिक करके अपना
    फॉर्म जमा करे। फॉर्म जमा करने की अन्तिम
    तिथि 30 अप्रैल 2022 रहेगी धन्यवाद ।
    आवेदन लिंक
    अन्य जानकारी के लिए आप कॉल कर सकते हैं।
    सम्पर्क सूत्र -
    98030-43271, 85448-78541



गुरुकुल आगामी कार्यक्रम 2022

क्रं. कार्यक्रम तिथी आवेदन
1 वार्षिक परीक्षा 15 अप्रैल से 23 अप्रैल तक
2 आर्य वीर दल शिविर 24 अप्रैल से 30 अप्रैल तक
3 नवीन छात्रों के प्रवेश परीक्षा 1 मई से
4 नवीन सत्र आरम्भ 3 मई से
5 वार्षिक स्पोर्ट्स मीट 09 मई से 14 मई तक
6 वार्षिक पुरस्कार वितरण समारोह 15 मई को
7 संस्कृत शिविर (लड़के तथा लड़कियों दोनों के लिए) 28 मई से 6 जून तक

8 ग्रीष्म अवकाश 30 मई से 30 जून तक
9 आर्य वीर दल (केवल लड़कों के लिए) 6 जून से 12 जून तक

10 आर्य वीरांगनादल शिविर (केवल लड़कियों के लिए) 13 जून से 19 जून तक

11 ग्रीष्म अवकाश उपरान्त कक्षा आरम्भ 01 जुलाई 2022 से

अध्यक्ष सन्देश

मातृवान् पितृवान् आचार्यवान् पुरुषोवेद अर्थात् बच्चे के तीन गुरु कहलाते है । पहली माता, दूसरा पिता, तीसरा आचार्य आधुनिक शिक्षा प्रणाली में इन तीनों ही गुरुओं का अभाव सा प्रतीत होता है । क्योंकि वर्तामान में न ही माता पिता के पास समय है और न ही योग्य आचार्यों का बच्चे के सर्वांगीण में योगदान है परन्तु वर्तमान में मूल्य परक, गुणवत्ता परक, आचार युक्त, राष्ट्र,- मातृ- पितृभक्ति परक शिक्षा से ही बच्चों का ही सर्वांगीण विकास सम्भव है और इसी प्रकार के कार्यों को क्रियान्वित करने हेतु ऋषि दयानन्द प्रणीत गुरुकुल परम्परा एक उत्तम विकल्प है | Read More......

प्राचार्य सन्देश

संसार का उपकार करना इस समाज का मुख्य उद्देश है अर्थात् शारीरिक आत्मिक और सामाजिक उन्नति करना ऋषि दयानन्द द्वारा प्रणीत यह वाक्य वर्तमान में सभी शिक्षाविदों के लिए चिन्तनीय है क्या वर्तमान में इस प्रकार की शिक्षा प्रणाली उपलब्ध है । जो बच्चों का शारीरिक, आत्मिक एवं सामाजिक विकास करती हो । आज का युग विज्ञान युक्त बात को करता है परन्तु उसके अन्दर आत्मविश्वास का भी अभाव प्रतीत होता है । जिसके कारण वह युवा अन्धविश्वास का भी सहारा लेता है । आज का युवा बुद्धिमान तो है परन्तु शरीर से दुर्बल भी है । आज के युवा को अपनी उन्नति हेतु लाखों का धनलाभ तो मिलता है | Read More......


Make a Misssed Call at

02261816131